ताज़ा खबरे
Home / ताज़ा खबरे / अंतरिम बजट से करदाता,उद्योग जगत मायूस,गरीब-किसान पर फोकस

अंतरिम बजट से करदाता,उद्योग जगत मायूस,गरीब-किसान पर फोकस

नई दिल्ली- वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने देश के आम टैक्सपेयर्स को कोई राहत नहीं दी है और टैक्स स्लैब और टैक्स रिजीम में कोई बदलाव नहीं किया है। इसका अर्थ है कि आप जिस रेट पर टैक्स दे रहे हैं, उसी दर पर आपको इनकम टैक्स देना होगा। नए टैक्स रेजीम में 7 लाख रुपए तक की आमदनी पर कोई भी टैक्स नहीं है। उद्योग जगत भी खाली हाथ रहा,उद्योग क्षेत्र में भी मायूसी छायी है। शेयर बाजार खामोश है। रेल यात्रियों भी मायूस हैं,उनको कोई नई ट्रेन नहीं मिली। यह चुनाव-पूर्व बजट तकनीकी रूप से लेखानुदान है। अंतरिम बजट में कोई लोकालुभावन घोषणाएं नहीं है। हलांकि चुनावी वर्ष है। चुनाव के बाद पूर्ण बजट पेश होगा। पिछले 10 सालों में क्या किया वही बताया,लेकिन भविष्य में क्या करेंगे इसके बारे में कुछ नहीं बताया। बजट में टैक्स शब्द 42 बार… लेकिन राहत के लिए जुलाई तक का इंतजार! देशवासी आशावान थे कि बजट में उनको कुछ मिलेगा,लेकिन कह सकते हैं कि नई संसद भवन का पहला बजट खोदा पहाड़ निकली चुहिया से ज्यादा और कुछ नहीं है। कुला मिलाकर बजट पुरानी बोतल और पुरानी शराब की तरह है।

 

वित्त मंत्री के बजट भाषण में पिछले 10 सालों की केंद्र सरकार की उपलिब्धयों का बखान किया गया। कहा गया कि विकास कार्यक्रमों ने सभी के लिए आवास, हर घर जल, सभी के लिए बिजली, सभी के लिए रसोई गैस और रिकॉर्ड समय में सभी के लिए बैंक खाते का लाभ दिया गया है. वित्तीय सेवाओं के जरिए प्रत्येक घर और व्यक्ति को वित्तीय रूप से सक्षम बनाने पर फोकस किया गया है। वित्त मंत्री ने सरकार की उपलब्धियां गिनाते हुए कहा कि ये बजट आगे चलकर विकसित भारत के रोडमैप को बनाने में भी सहायक होगा।

 

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने संसद में अंतरिम बजट पेश करते हुए कहा कि हमने अंतरिम बजट की परंपरा को जारी रखने का काम किया है। दरअसल,अंतरिम बजट में किसी तरह की लोकलुभावन घोषणाएं नहीं की जाती हैं। यही वजह है कि सरकार ने किसी तरह की घोषणाएं करने से परहेज इस बार किया है।

 

डायरेक्ट और इनडायरेक्ट टैक्स में कोई बदलाव नहीं

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने संसद में अंतरिम बजट पेश करते हुए कहा कि चालू वित्त वर्ष में राजकोषीय घाटा 5.8 प्रतिशत रहने का अनुमान, अगले वित्त वर्ष में इसे 5.1 प्रतिशत पर लाने का लक्ष्य है। राज्यों में विकास के लिए 75,000 करोड़ रुपये के ब्याज-मुक्त कर्ज का प्रावधान किया गया है। वित्त वर्ष 2024-25 में 30.80 लाख करोड़ रुपये की कुल प्राप्तियां (उधारी को छोड़कर) रहने का अनुमान है। उन्होंने कहा कि आयकर स्लैब में कोई बदलाव नहीं किया गया है। डायरेक्ट और इनडायरेक्ट टैक्स में कोई बदलाव नहीं किया जा रहा है।

 

उड़ान योजना के तहत 517 नये मार्ग जोड़े जाएंगे

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने संसद में अंतरिम बजट पेश करते हुए कहा कि हवाई अड्डों की संख्या बढ़ गई है। उड़ान योजना के तहत 517 नये मार्ग जोड़े जाएंगे। सरकार का कोयला ‘गैसिफिकेशन’ के जरिये प्राकृतिक गैस घटाने का लक्ष्य है।

 

40 हजार नॉर्मल रेल डिब्बे वंदे भारत जैसी कोच में बदलेंगे

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने संसद में अंतरिम बजट पेश करते हुए कहा कि तीन रेल कॉरिडोर शुरू किए जाएंगे। यात्री ट्रेनों के परिचालन में सुधार करने का हमारा ध्यान होगा। उन्होंने कहा कि पीएम गति शक्ति योजना में काम तेज किया जाएगा। माल-भाड़ा परियोजना को भी विकसित करने पर सरकार का फोकस रहेगा। 40 हजार नॉर्मल रेल डिब्बों को वंदे भारत में बदलने का काम किया जाएगा।

Check Also

महाराष्ट्र भाजपा के 23 प्रत्याशियों का ऐलान,5 सांसदों का पत्ता कटा

मुंबई-महाराष्ट्र में 19 अप्रैल से 20 मई तक पांच चरणों में लोकसभा चुनाव होंगे। बीजेपी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *