ताज़ा खबरे
Home / ताज़ा खबरे / महेश लांडगे हटाओ अभियान,फुलटाइम शहर अध्यक्ष की मांग

महेश लांडगे हटाओ अभियान,फुलटाइम शहर अध्यक्ष की मांग

पिंपरी- पिंपरी चिंचवड शहर भाजपा अध्यक्ष और भोसरी से विधायक महेश लांडगे का अध्यक्ष पद खतरे में है। शहर भाजपा के एक नाराज गुट ने प्रदेश और राष्ट्रीय हाईकमान को चिट्ठी लिखकर मांग की है कि ‘एक व्यक्ति एक पद’ की परंपरा लागू हो। महेश लांडगे के पास विधायक और शहर अध्यक्ष पद दोनों है। अपनी व्यस्तता के चलते भाजपा के कार्यकर्ताओं को समय नहीं दे पाते,केवल भोसरी क्षेत्र तक सीमित रह गए है। आपको बता दें कि महेश लांडगे का अध्यक्ष पद कार्यकाल समाप्त होने वाला है। यही सही टाइमिंग देखकर हथौडा मारा गया। प्रदेश हाईकमान दोबारा महेश लांडगे को रिपिट कर सकता है इस संभावना को ध्यान में रखते हुए कुछ लोग दिल्ली में डेरा डालकर राष्ट्रीय हाइकमान को सविस्तार जानकारी दी और नए अध्यक्ष की मांग की।

 

महेश लांडगे का शहर अध्यक्ष पद भोसरी क्षेत्र तक सीमित

पिंपरी चिंचवड मनपा का चुनावी बिगुल कभी भी बज सकता है। भाजपा की तैयारियों का अभियान ठंडे बस्ते में है। इसी के साथ भाजपा से इच्छुक टिकट के उम्मीदवारों का हाथ पैर ठंडा पडना स्वभाविक है। शहर भाजपा के प्लेटफॉर्म पर कोई भी कार्यक्रय इन दिनों नहीं हो रहे। शहर भाजपा का एक गुट नाराज चल रहा है। उन्होंने प्रदेश हाईकमान से शिकायत की है कि शहर अध्यक्ष महेश लांडगे के पास दो- दो पद होने की वजह से वे कार्यकर्ताओं को मिलने व उनकी समस्याओं को सुनने का समय नहीं है॥ आधा समय भोसरी और आधा समय मुंबई वारी में व्यतीत होता है। केवल भोसरी क्षेत्र तक उनका अध्यक्ष पद सीमित रह गया पिंपरी और चिंचवड क्षेत्र के भाजपा कार्यकर्ता,इच्छुक उम्मीदवारों की समस्याएं सुनने के लिए पार्टटाइम नहीं फुलटाइम वाला अध्यक्ष की नियुक्ति होनी चाहिए। बीते एक साल से मनपा में प्रशासक राज कायम है। वहां भाजपा का कोई पदाधिकारी नहीं। पालिका संबंधित लोगों की समस्याओं को लेकर कहां जाए? यह बडा सवाल भाजपा के पूर्व नगरसेवकों,पदाधिकारियों,कार्यकर्ताओं के सामने है। अगर वॉर्ड की जनता के काम नहीं होंगे तो पालिका का चुनाव जीतना मुश्किल हो जाएगा। चिंचवड विधानसभा चुनाव का टेलर सबके सामने है।

 

पार्टटाइम नहीं फुलटाइम का अध्यक्ष दो, ‘एक व्यक्ति एक पद’ नियम लागू करो

भाजपा के नाराज गुट ने हाईकमान से मांग की है कि उनको भाजपा कार्यालय में बैठने वाला फुलटाइम वाला शहर अध्यक्ष पद मिले,शहर में भाजपा के तीन विधायक है। चिंचवड से अश्विनी जगताप,भोसरी से महेश लांडगे और एक विधान परिषद विधायक उमा खापरे। कार्यकर्ताओं और आम जनता की समस्याएं शहरी,पालिका स्तरीय होती है ना कि मंत्रालय स्तर की। लोकल समस्याओं का समाधान करने के लिए भाजपा को स्वतंत्र शहर अध्यक्ष की जरुरत है। भाजपा में नियम और परंपरा है कि ‘एक व्यक्ति एक पद’ क्या पिंपरी चिंचवड में यह नियम और परंपरा लागू नहीं? ऐसा भी सवाल हाईकमान से नाराज भाजपा कार्यकर्ताओं ने पूछा है। हाईकमान ने भाजपा कार्यकर्ताओं की मांग पर गंभीरता दिखाते हुए आश्वासन दिया है कि जल्द ही पिंपरी चिंचवड शहर को फुलटाईम वाला स्वतंत्र अध्यक्ष मिलेगा।

 

महेश लांडगे के नेतृत्व को चैलेंज किसने दिया?

प्रदेश हाईकामन से मांग किसने की? और महेश लांडगे के नेतृत्व को चैलेंज किसने दिया? वही लोग जो वर्षों से भाजपा के पुराने वफादार सिपाही हैै,वही लोग जो मुंबई और दिल्ली में अपनी पकड रखते हैं,वही लोग जो पुराने हैं,वफादार हैं लेकिन हाथ खाली है। इनका साथ कुछ नई टीम के वरिष्ठ कार्यकर्ता दे रहे है जो पर्दे के पीछे से खेला खेल रहे है। हाईकमान ने पूछा महेश लांडगे की जगह दूसरा योग्य कौन? वह भी नाम चौंकाने वाला आया। यह भी सत्य है कि 2017 में स्व.लक्ष्मण जगताप और महेश लांडगे ने मिलकर 15 साल की सत्तारुढ राकांपा के साम्राज्य को ध्वस्त करके मनपा भवन में भगवा पताका फहराया था। यह भी सत्य है कि लक्ष्मण जगताप का स्वस्थ्य ठीक न होने के कारण उन्होंने खुद अपना अध्यक्ष पद का ताज महेश लांडगे के सिर पर पहनाया। महेश लांडगे की छवि एक धनबल,बाहुबल,कर्मठ नेता के रुप में होती है। लेकिन उनके बढ़ते साम्राज्य को उनके ही लोगों को खटकने लगी। परिवार जब बडा होने लगता है तो संभालना मुश्किल हो जाता है। बाहरी से तो लड लोगे लेकिन अपनों से कैसे लडोगे? बस घेराबंदी शुरु हो गई,नाराज गुट ने अपना नेतृत्व बदलने का मन बना लिया।

 

आने वाले दिनों में पिंपरी चिंचवड शहर भाजपा को स्वतंत्र अध्यक्ष मिल जाए तो आश्चर्य नहीं। क्योंकि राजनीति संभावनाओं का खेल है,कभी भी स्थिर नहीं रहती। स्थानीय नेताओं व कार्यकर्ताओं के मन में निरंतर आशा-अभिलाषा का बीज पनपता रहता है।

Check Also

महाराष्ट्र भाजपा के 23 प्रत्याशियों का ऐलान,5 सांसदों का पत्ता कटा

मुंबई-महाराष्ट्र में 19 अप्रैल से 20 मई तक पांच चरणों में लोकसभा चुनाव होंगे। बीजेपी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *