ताज़ा खबरे
Home / ताज़ा खबरे / संतों की पालकी दो दिन विश्रांति बाद पुणे से प्रस्थान,दिवे घाट के कठिन डगर पर निकली

संतों की पालकी दो दिन विश्रांति बाद पुणे से प्रस्थान,दिवे घाट के कठिन डगर पर निकली

पुणे- पुणे में दो दिन विश्रांति के बाद संत ज्ञानेश्वर महाराज और संत तुकाराम महाराज की पालकी अपने विठ्ठल से मिलने पुणे से प्रस्थान कर चुकी है। दोनों संतों की पालकी हडपसर मार्ग दिवे घाट से होते हुए सासवड में रुकेगी। संत तुकाराम महाराज की पालकी हडपसर होते हुए लोणी कालभोर में रुकेगी। दो साल बाद पैदल यात्रा शुरू होने के बाद से लाखों वारकरी दोनों पालकी में शामिल हो चुके हैं। संत ज्ञानेश्वर महाराज की पालकी आज दिवे घाट में एक कठिन यात्रा करने जा रही है। दूसरी ओर,जगद्गुरु संत तुकाराम महाराज पालकी लोणी होते हुए पंढरी के लिए प्रस्थान कर रहे हैं।

 

चोरी के आरोप में गिरफ्तार

पुणे में दो दिनों तक पुणे में रुकी पालकियों की भीड़ लगी रही। आलंदी, देहु में वैष्णव मेला अब पुणे विश्रांति के बाद पंढरी के रास्ते आगे बढ़ रही है। पिंपरी चिंचवड़ पुलिस ने संत श्रेष्ठ ज्ञानेश्वर महाराज और संत तुकाराम महाराज पालकी समारोह में भीड़ का फायदा उठाने वाले चोरों को गिरफ्तार कर लिया है। पालकी समारोह में जहां बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं ने भाग लिया, वहीं कई चोरों ने भीड़ का फायदा उठाकर सोने की चेन व पर्स चुरा लिए घटना की जांच के लिए अपराध शाखा और स्थानीय पुलिस की एक टीम को तैनात किया गया था। इसमें कुछ पुलिस अधिकारी, कर्मचारी वारकरी वेशभूषा में पालकी के साथ चल रहे थे।

 

पुणे और पिंपरी चिंचवड़ पुलिस विभिन्न दस्तों, कर्मचारियों और अधिकारियों को गश्त कर रही थी। कई जगहों पर सीसीटीवी भी लगाए गए थे। गश्त के दौरान कई संदिग्ध दिखे। करीब 225 संदिग्धों को हिरासत में लिया गया। पुलिस ने इनमें से 60 को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने इनके पास से साढ़े पांच लाख रुपये बरामद किए हैं। पालकी समारोह के दोषियों की पहचान के लिए विभिन्न जिलों से कुछ लोगों को लाया गया था।

Check Also

आंदोलनकारी राष्ट्रवादी कार्यकर्ताओं ने बदला राज्यपाल का नाम

पिंपरी- महाराष्ट्र के राज्यपाल ने हाल ही में एक विवादित बयान दिया था जिसके चलते …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *