ताज़ा खबरे
Home / ताज़ा खबरे / दादाराव आढाव पिंपरी चिंचवड शहर पत्रकार संघ के अध्यक्ष नियुक्त

दादाराव आढाव पिंपरी चिंचवड शहर पत्रकार संघ के अध्यक्ष नियुक्त

पिंपरी-पिंपरी चिंचवड शहर पत्रकार संघ के प्रथम अध्यक्ष पद पर दादाराव आढाव की नियुक्ति सर्वसम्मति से की गई। संस्थापक प्रमुख बापूसाहेब गोरे के कुशल मार्गदर्शन और नेतृत्व में कल पत्रकारों की एक बैठक आयोजित की गई थी जिसमें अध्यक्ष पद पर दादाराव आढाव,वरिष्ठ उपाध्यक्ष-संतलाल यादव,उपाध्यक्ष-महेश मंगावळे,उपाध्यक्ष-संजय बोरा,महासचिव पद पर सुनिल कांबळे(बाबू) सचिव पद पर श्रद्धा कोतावडेकर,कोषाध्यक्ष पद पर जितेंद्र गवली,कार्यकारिणी सदस्य पद-सायली कुलकर्णी,संतोष जराड,विश्वास शिंदे,सदानंद रनाडे की नियुक्ति की गई है।

 

संस्थापक बापूसाहेब गोरे ने क्या कहा?

पिंपरी चिंचवड शहर पत्रकार संघ के संस्थापक बापू साहेब गोरे ने अपनी प्रतिक्रिया में कहा कि अब तक जिस पत्रकार संघ में हम काम कर रहे थे उस पर चंद लोग कब्जा जमाकर एकछत्र राज करना चाहते हैं। एक हाथ में संघ के कामकाज को चला रहे है। किसी को विश्वास में नहीं लिया जाता,हम करे सो कायदा..इस राह पर पर चल पड़े। इसलिए हम सभी पत्रकार सामूहिक त्यागपत्र देकर पिंपरी चिंचवड शहर पत्रकार संघ की स्थापना की। यह कार्यकारिणी एक वर्ष के लिए होगी। नवनियुक्त अध्यक्ष दादाराव आढाव ने कहा कि बापूसाहेब गोरे ने मेरे ऊपर जो विश्वास जताया उस पर मैं 100% खरा उतरने की पूरी कोशिश करुंगा। अध्यक्ष होने के नाते पत्रकारों की जो भी मूल समस्या मेरे संज्ञान में लायी जाएगी उसका निर्वाहन करने का प्रयास करुंगा।

 

बापूसाहेब गोरे की विरोधियों को संदेश

हमारे संवाददाता ने जब संस्थापक बापूसाहेब गोरे से नई पत्रकार संघ स्थापित करने के पीछे कारण जानना चाहा तो उनका कहना था कि वे महाराष्ट्र भर में अब तक संगठना को मजबुत करने का काम किया,कई शाखाएं खोली,लेकिन अब चंद लोग जिनको केवल अपने पेट भरने से मतलब है,जिनको केवल अध्यक्ष पद की लालसा है,जो पत्रकारों को भ्रमित करके,दुष्प्रचार करके आपस में लडाने का काम करते है,झूंडशाही के मार्ग पर है ऐसे प्रदुषित वातावरण में काम करना मुश्किल हो रहा था। ये वो लोग हैं जो ..मैं बड़ा…मैं बड़ा की माला जपते हैं। एक इंसान को जब घमंड हुआ तो वह पगलाकर घूमते घूमते हिमालय पर्वत के नीचे पहुंचा और चिल्लाने लगा कि मैं सबसे बड़ा। हिमालय पर्वत की आकाशवाणी होती है कि …काहे का तू बड़ा तेरे उपर मैं खड़ा…फिर हिमालय को घमंड होता है और चिल्लाकर कहता है कि …मैं बड़ा…मैं बड़ा..फिर आकाशवाणी होती है कि …काहे का तू बड़ा,तेरे उपर मैं खड़ा..यह आकाशवाणी शिवशंकर भोलनाथ,जटाधारी,विषधारी की थी। बापूसाहेब गोरे ने उन लोगों को संदेश देते हुए कहा कि जो लोग यह यह समझ बैठे हैं कि जो हम कर सकते हैं वो कोई नहीं कर सकता,उनके लिए गोरे ने कहा… सितम करोगे सितम करेंगे,करम करोगे करम करेंगे…हम आदमी हैं तुम्हारे जैसा…जो तुम करोगे वो हम करेंगे…।

Check Also

मानसून में देरी,आयुक्त ने दिए पानी कटौति के संकेत

पिंपरी- पिंपरी चिंचवड शहर के नागरिकों को पहले से ही एक दिन के बाद पानी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *